Tuesday, November 3, 2009

बिन तुम्हारे बसर किया हमने

बिन तुम्हारे बसर किया हमने
यूँ भी तन्हा सफर किया हमने

तुमने जीती है सल्तनत लेकिन
दिल मैं लोगों के घर किया हमने

आज के दौर मैं वफ़ा करके
अपने दामन को तर किया हमने

वजह उस पे यकीं की मत पूंछो
न था करना मगर किया हमने

वो उठाते हैं उँगलियाँ हम पर
जिनमें पैदा हुनर किया हमने

उनकी यादों के जाम पी पी के
दर्द को बेअसर किया हमने

जानता हूँ की बेवफा है वो
साथ फिर भी गुज़र किया हमने

जब भी दुनिया पे ऐतबार किया
ख़ुद को ही डर दर बदर किया हमने

दोस्ती में मिटा के ख़ुद को 'सोज़'
दोस्ती को अमर किया हमने

राम प्रकाश गोयल 'सोज़'

No comments:

Post a Comment