Tuesday, February 22, 2011

ख़ुशगवार मौसम है जाम हम उठाते हैं

ख़ुशगवार मौसम है जाम हम उठाते हैं
बोतलों के पानी में आज डूब जाते हैं

वो तो करते हैं वादा रोज़ शब को मिलने का
रोज़ उनकी आमद का हम दिया जलाते हैं

क्यों गुरुर करते हो अपने हुस्न पर इतना
जब शबाब ढलता है पाँव लड़खड़ाते हैं

जिस जगह पे हिंसा की आंधियां हो ज़ोरों पर
हम तो अमन का दीपक बस वहीँ जलाते हैं

है जहाँ में कुछ मयकश डूब कर जो 'सागर' में
जो न बडबडाते हैं और न डगमगाते हैं

सागर कादरी "झांसवी"
Mob.9889405047




No comments:

Post a Comment