Tuesday, January 27, 2015

हाले दिल क्या पूँछते हो मुझको ठुकराने के बाद

हाले दिल क्या पूँछते हो मुझको ठुकराने के बाद
क्या महक सकता है कोई फूल मुरझाने के बाद

फिर हवा है तेज़ या रब आश्यं की ख़ैर हो
फिर न ऐसा बन सके शायद बिखर जाने के बाद

मेरे अरमानों की कश्ती भी उन्हीं में थी शरीक
कश्तियाँ डूबीं थीं जो साहिल से टकराने के बाद

वसी मोहम्मद खान 'सालिक '




No comments:

Post a Comment