Sunday, March 20, 2011

मुझे ग़म इस क़दर दो तुम मेरी आँखों को नम कर दो

मुझे ग़म इस क़दर दो तुम मेरी आँखों को नम कर दो
अगर शिकवा जुबां पर आये तो ये सर क़लम कर दो

तुम्हारे इश्क़ में ये जान भी जाये तो क्या ग़म है
मगर तुम बस उदू के घर का आना जाना कम कर दो

हमारे पयार के दुश्मन ज़माने में बहुत होंगे
ये शाख़े दोस्ती किसने कहा तुम से क़लम कर दो

जिसे अपना बनता हूँ वो मुँह को फेर लेता है
ख़ुदारा हाल पे मेरे ज़रा चश्म-ए-करम कर दो

लिखा 'रम्मन' ने अपना हाले दिल तुम को मोहब्बत से
ख़ुदा के वास्ते आकर ख़लिशअब उस की कम कर दो


रमन लाल अग्रवाल 'रम्मन'

शिकवा - शिकायत
उदू - दुश्मन
चश्म-ए-करम-मेहरबानी
ख़लिश-चुभन

1 comment: