Tuesday, January 20, 2009

युवा बेटी

जवानी की देहलीज़ पर
क़दम रख चुकी बेटी को
माँ ने सिखाये उसके कर्तव्य
ठीक वैसे ही
जैसे सिखाया था उनकी माँ ने
पर उन्हें क्या पता था
जो कर्तव्यों की गठरी ढोते-ढोते
अपने आसुंओं को
चुपचाप पीना नहीं जानती है
वह उतनी ही सचेत है
अपने अधिकारों को लेकर जानती है
स्वयं अपनी राह बनाना
और उस पर चलने के
मानदंड निर्धारित करना .

आकांक्षा यादव
kk_akanksha@yahoo.com

4 comments:

  1. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया कविता है आकांक्षा जी की। सच आज के दौर में लड़कियों के जीने के लिए मानकों में बदलाव अत्यावश्यक है...और मां से इसकी अपेक्षा करना जायज।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया कविता लिखी है।बधाई।

    ReplyDelete
  4. Haan...honaa to aisaahee chahiye...par betee sachet ho jay aur uske aaspaaswalen nahee to kya hota hai, iskee kahanee apnee jeevanee mere blogpe likh rahee hun...zaroor padhen is maalika ko aur aapke vichar rakhen!!

    ReplyDelete