Saturday, January 31, 2009

वो जाने तमन्ना से कर लेगा जो याराना

वो जाने तमन्ना से कर लेगा जो याराना
हर रंजो अलम ग़म से हो जायेगा बेगाना

कुंदन सा बदन तेरा चंदन की तरह महके
जुल्फें हैं घटाएं तो आँखें तेरी मैखाना

मुखडा है कुंवल जैसा और फूल सी हैं बाहें
अब कौन न चाहेगा इन बाहों में मर जाना

हर फूल में कलियों में गुलशन की फज़ाओं में
सब में है महक तेरी अए नर्गिसे मस्ताना

माना के वोह ज़ालिम है, क़ातिल है, सितमगर है
हैरत है, जिसे देखो उसका ही है दीवाना

इस आलमे गमगीं में तुझसे ही तो रौनक़ है
जो तू न कहीं होता बन जाता यह गमखाना

वोह लुत्फो करम हो या बेदादो सितम तेरे
हर हाल में हूँ मैं तो बस तेरा ही दीवाना

है शर्त 'क़मर' उसकी दिल उसको ही वोह देगा
दे दे जो उसे जानो ईमान का नज़राना

मोहम्मद सिद्दीक खान 'क़मर'

No comments:

Post a Comment