Saturday, January 24, 2009

कौन है वो तो करके वादा भुला देता है

कौन है वो तो करके वादा भुला देता है
क्या जाने किस बात पे मुझको रुला देता है

आख़िर कब तक दर्द जुदाई सहना है
किस गुनाह की वो मुझको सज़ा देता है

किस से करें ज़िक्र अपनी बर्बादी का
राहे वफ़ा में हर बार दगा देता है

चाहा तो कुछ नहीं सुकून दिल के सिवा
फिर भी ख्वाबों की महफिल सज़ा देता है

क्या मिलेगा उसको जाकर के दूर मुझसे
होके दूर फिर भी अरमां जगा देता है

तस्वीर हर दौर की देखी है यही मैंने
दर्द भी दिल में जो होता है मज़ा देता है

महका करें वो हमेशा वो रात रानी की तरह
उनकी खुशबू से 'कँवल' ख़ुद को खिला देता है

सुधीर कुमार 'कँवल'

No comments:

Post a Comment