Thursday, December 31, 2009

दुश्मनों से भी दोस्ती रखिए

दुश्मनों से भी दोस्ती रखिये
तीरगी में भी रौशनी रखिये

जिंदगी कामयाब करनी हो
अपने होंठों पे बस हंसी रखिये

जिसके दिल में ज़रा भी हो एहसास
सामने उसके शायरी रखिये

बेरुखी से जो बात करते हों
दूर की उनसे बंदगी रखिये

हो बदलना जहाँ का चेहरा तो
जो मिले उसको बस सुखी रखिये

जो जवानी में हो गया बूढ़ा
सोच में उसके कमसिनी रखिये

जामे-उल्फत नहीं पिया जिसने
उसके होंठों पे तिशनगी रखिये

छा गयी हो जो दिल पे मायूसी
अपनी चेहरे पे कुछ हंसी रखिये

'सोज़' रहता हो बेवफा जिसमें
दूर अपने से वो गली रखिये

प्रोफेसर राम प्रकाश गोयल 'सोज़'
mob. 9412287787

तीरगी - अँधेरा
बंदगी - दुआ-सलाम
जामे-उल्फत - मोहब्बत का जाम
तिशनगी -प्यास

No comments:

Post a Comment