Thursday, April 9, 2015

मिरे दोस्तों को मुझसे जो ज़रा भी प्यार होता

मिरे दोस्तों को मुझसे जो ज़रा भी प्यार होता
न ये दामने मुहब्बत कभी तार तार होता

इक़बाल बन्ने 

No comments:

Post a Comment