Thursday, April 9, 2015

रिमझिम की फ़ज़ाओं में वो चलने नहीं देते

रिमझिम की फ़ज़ाओं में वो चलने नहीं देते
बारिश में मुझे घर से निकलने नहीं देते

अब्दुल जब्बार 'शारिब'

No comments:

Post a Comment