Thursday, April 23, 2009

यादों की सुबह

लो फिर तेरी यादों की सुबह हो गयी
आशाओं की हर कली जवां हो गयी
तेरी यादों की धूप में
मुझे पूरा दिन बिताना है,
आती-जाती हर साँस को
तेरी यादों से सजाना है
दूर तेरे चेहरे पे मेरी नज़र सो गई
लो फिर तेरी यादों की ...................

तन्हाइयों के सिवा और
किसे ये दास्ताँ सुनाएँ
शोर बिखरा है अंधेरों का
कैसे तुम्हें पास बुलाएं ?

हार कर भीड़ में आवाज़ कहीं खो गई
लो फिर तेरी यादों की.......................

लहू के साथ-साथ रंगों में
तेरा दर्द बह रहा है
बिखरे हुए सपनों को देख
वक़्त का आईना हंस रहा है
ढूंढें कहाँ तो मंजिल जो हमसे कहीं खो गई
तो फिर तेरी यादों की..............................

सुधीर खरे 'कमल'

No comments:

Post a Comment